कलेक्ट्रेट

जिला प्रशासन में कलेक्टर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आईएएस के कैडर में कलेक्टर महोदय जिला का नेतृत्व करते हैं। वह अपने अधिकार क्षेत्र में कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिला मजिस्ट्रेट के रूप में कार्य करते है। वह मुख्य रूप से योजना और विकास, कानून और व्यवस्था, अनुसूचित क्षेत्रों / एजेंसी क्षेत्रों, आम चुनाव, हथियार लाइसेंसिंग आदि महत्वपूर्ण क्षेत्रों में कार्य करते हैं।

अतिरिक्त कलेक्टर जो आईएएस कैडर और एसएएस कैडर से संबंधित हैं, जिले में विभिन्न अधिनियमों के तहत राजस्व प्रशासन चलाते हैं। उन्हें अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट के रूप में भी नामित किया गया है। वह मुख्य रूप से नागरिक आपूर्ति, भूमि मामलों, खानों और खनिजों, गांव अधिकारियों आदि से संबंधित कार्य संपादित करते हैं।

संयुक्त कलेक्टर जो एसएएस कैडर विशेष ग्रेड उप कलेक्टर है, विभिन्न विभागों से संबंधित विभिन्न विकास गतिविधियों की देखभाल करते है। संयुक्त कलेक्टर द्वारा देखे गए प्रमुख विभाग जिला चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग, सामाजिक कल्याण विभाग, बीसी कल्याण, बीसी निगम, अक्षम कल्याण, आवास और अन्य विभाग हैं। समय समय पर उपरोक्त शाखाएँ कलेक्टर महोदय द्वारा कार्य विभाजन के माध्यम से विभिन्न ओ. आई. सी. को दी जाती हैं|

राजस्व कार्यों में भूमि अभिलेखों का रखरखाव, राजस्व मामलों का संचालन, सीमांकन और उत्परिवर्तन, निपटान परिचालन और सार्वजनिक भूमि के संरक्षक के रूप में कार्य करना शामिल है। अनु-विभागीय मजिस्ट्रेट को सहायक कलेक्टरों और राजस्व सहायकों के रूप में नामित किया गया है और वे मुख्य रूप से रोज़मर्रा के राजस्व कार्य के लिए जिम्मेदार हैं। गिरदावर, कानूनगो और पटवारी  राजस्व कर्मचारी को तहसीलदार सुपरवाइज़ करते हैं जो क्षेत्रीय राजस्व गतिविधियों और म्यूटेशनों कार्यों को सँभालते हैं|  उन्हें एससी / एसटी और ओबीसी, डोमिनिक, नेशनलिटी, संपत्ति दस्तावेजों का पंजीकरण इत्यादि सहित विभिन्न प्रकार के वैधानिक प्रमाण पत्र जारी करने का भी अधिकार है।

तहसीलदार राज्य सरकार का पमहत्वपूर्ण पद है। तहसील के सभी भूमि और राजस्व अभिलेखों को बनाए रखने के लिए उनके पास विस्तृत कर्तव्य और विशाल शक्तियां हैं। भूमि राजस्व उनके कर्मचारी i.e आरआई (राजस्व निरीक्षक) और पटवारी द्वारा एकत्र किया जाता है। सभी भूमि अधिग्रहण और संपत्ति अधिग्रहण के मामलों को उनके कार्यालय द्वारा तैयार किया जाता है। किसी भी प्राकृतिक आपदा या बाधाओं द्वारा नुकसान पहुंचने पर तत्काल राहत अभियान शुरू करने और स्थिति को संभालना के लिए अग्रणी भूमिका निभाते हैं। किसी भी कारण और फिक्सिंग के कारण फसलों का कुल नुकसान मूल्यांकन इसका मुआवजा तहसीलदार द्वारा प्रबंधित किया जाता है। तहसीलदार कार्यालय द्वारा ही सभी मौसम , बारिश, तापमान आदि से हुए फसलों का नुकसान मूल्यांकन किया जाता है। वह सभी सरकारी भूमि का प्रभारी है। कोई भी नई परियोजना अर्थात कॉलेज, अस्पताल या अन्य सरकारी भूमि की उपलब्धता पर आधारित है। तहसीलदार में सार्वजनिक शांति को बनाये रखने हेतु कई कड़ाई से परिभाषित मजिस्ट्रेट पावर भी हैं।